नरेन्द्रपुर गांव में शहीद सम्मान समारोह का आयोजन ।

डी के राठौड़:सिवान:

सामाजिक ,न्यायिक ,राजनीतिक व प्रशासनिक क्षेत्र की हस्तियां की शिरकत।

देश के प्रति समर्पण ही राष्ट्र सेवा है । पूर्व आईएएस जीरादेई प्रखण्ड क्षेत्र के नरेन्द्रपुर गांव में रविवार को शहीद परिजन सम्मान समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम का शुभारंभ 1942 के आंदोलन में बिहार के सात शहीदों में अग्रणी पंक्ति में रहेशहीद उमाकांत सिंह (रमण जी )के प्रतिमा पर आगत अतिथियों द्वारा माल्यार्पण कर किया गया ।उसके बाद कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन छात्रों द्वारा राष्ट्र गान के साथ किया गया ।ततपश्चात लोक गायिका काबेरी ने ये मेरे वतन के लोगों जरा आँख में भर लो पानी देश भक्ति प्रस्तुत की ।स्वागत भाषण सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश सह चेयरमैन सैट के माननीय शिवकीर्ति सिंह ने किया ।उन्होंने आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि शहीदों के बलिदान से देश आजाद हुआ ।न्यायमूर्ति ने बताया कि देश की आजादी ही नही आज हमें शांति व अमन तथा चैन से सोने में भी शहीदों का बलिदान ही है ।उन्होंने बताया कि आज पूरा देश शहीदों के सहादत से गमगीन है ।उन्होंने युवाओं को शहीदों के बलिदान से प्रेरणा लेने का सलाह दिया तथा सबको राष्ट्र के विकास में अपनी ऊर्जा खपत कर भारत को पुनः विश्व गुरु बनने में सहयोग का सुझाव दिया ।पूर्व न्यायाधीश ने शशिदों के सम्मान में खड़े होकर दो मिनट का मौन रहने के लिये कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों से निवेदन किया ।कार्यक्रम का संचालन युवा समाजसेवी राहुलकीर्ति सिंह ने किया ।पूर्व आईएएस झारखण्ड के पूर्व प्रधान सचिव व केंद्रीय पूर्व अपर सचिव विमल कीर्ति सिंह ने कार्यक्रम के पृष्टभूमि को विस्तार से बताते हुए शहीदों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की । देश के प्रति पूर्ण समर्पण ही राष्ट्र सेवा है ।उन्होंने बताया कि देश की आजादी में सारण कमिश्नरी के अनगिनत वीर शहीदों ने देश की आजादी के लिये अपने प्राणों की आहूति दी ।पूर्व आईएएस ने बताया कि जीरादेई के भरथुई गढ़ के वीर योद्धा बाबू धज्जु सिंह ने विदेशी ताकतों से लड़कर हुसेपुर की रानी को बचाया तथा गर्भवती रानी को अपने छावनी भरथुई गढ़ में शरण दिया जिससे मोहन जी नाम के बालक का जन्म हुआ तथा बाबू धज्जु सिंह के सहयोग से हथुआ में छावनी बना मोहन जी को युवराज घोषित कराया ।इस प्रकार हथुआ राज की स्थापना हुई ।उन्होंने बताया कि बाबू धज्जु सिंह नरवनी के बंशज थे तथा नरवनी के वीर योद्धाओं ने पांच अंग्रेजों का शर काटकर असाव में अपनी छावनी में रख दिये थे जिससे पूरा अंग्रेजी हुकूमत भयभीत हो गया।

उन्होंने बताया कि मेरे चाचा जी शहीद उमाकांत सिंह ने मात्र 17 वर्ष की अवस्था मे शहादत दे पटना सचिवालय पर 11 अगस्त 19 42 को तिरंगा फहराने का काम किया । उन्होंने बताया कि देशरत्न डॉ राजेन्द्र प्रसाद व मौलाना मजहरुल हक साहब तथा बिहार के अनेकों वीर शहीदों के परिवार से हमारे परिवार का आज भी सम्बन्ध कायम है। उन्होंने बताया कि हमारे पिता जी स्व शम्भू प्रसाद सिंह (जज साहब)से सभी स्वतंत्रता सेनानी जुड़े हुए थे ।इसके बाद शहीद परिजन सम्मान समारोह की कड़ी आरम्भ हुई जिसमें क्रमशः भगवानपुर प्रखण्ड के युवाफर गांव के शहीद शुभलाल महतो के पोता विनय कुमार कुशवाहा ,सिहौता बंगरा महराजगंज के शहीद देवशरण सिंह के पुत्र बलिराम सिंह , अभूई महराजगंज के शहीद चंद्रमा महतो के भतीजा असरफी प्रसाद , ठेपहा जीरादेई के शहीद बच्चन प्रसाद के पोता उमा सिंह कुशवाहा ,उसी परिवार के शहीद सीताराम भगत के पोता मंटू कुशवाहा ,मैरवा लंगड़ पूरा के शहीद रामदेनी कुर्मी के बहु श्रीमती कुँवर ,नरेन्द्रपुर के शहीद उमाकांत सिंह के पोता प्रसून कीर्ति सिंह एवं सिहौता बंगरा महराज गंज के स्वतंत्रता सेनानी सीताराम सिंह को पुष्पगुच्छ व अंगवस्त्र से सम्मानित किया गया ।सभी शहीद 1942 के आंदोलन में शहादत दिए थे ।सारण के अन्य 1942 के शहीदों के परिजन अपने गांव पर नही रहते है ।धन्यवाद ज्ञापन पूर्व कैप्टन हरिकीर्ति सिंह ने किया ।इसके बाद सभी आगत अतिथियों ने स्व शम्भू प्रसाद सिंह की स्मृति में निर्मित विवाह भवन में लगे दुर्लभ चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किये ।तदोपरांत सभी लोग प्रीति भोज में शामिल हुए ।

इस मौके पर सिवान पूर्ब सांसद प्रत्याशी हीन साहब,लीलावती गिरी,रघुनाथपुर बिधायक हरिशंकर यादव,पूर्ब मंत्री बिक्रम कुँवर,समाजसेवी संजय सिंह,पूर्ब बिधायक मानिकचंद्र राय, पूर्ब जिलाध्यक्ष बिनय चंद्र श्रीवास्तव,भाजपा नेता जितेंदर स्वामी,पूर्ब भजपा अध्यक्ष जितेश सिंह,कांग्रेश जिला अध्यक्ष बिदुशेखर पांडेय,क्षत्रिय समाज के प्रदेश अध्यक्ष बिनय बिहारी सिंह,भजपा नेता विनोद तिवारी,जदयू नेता झाम बाबा,जिला मुखिया संघ अध्यक्ष अजय चौहान,राजद नेता हरेन्द्र सिंह,जदयू प्रवक्ता झाम बाबा सहित सिवान जिले के जीरादेई प्रखंड के नरेंद्रपुर पैतृक गांव में पहुंचे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज और सुप्रीम कोर्ट के चेयरमैन शिव कीर्ति सिंह के साथ ईटीवी भारत और दैनिक जागरण संवाददाता धनेश सिंह राठौर और उनके भतीजे राहुल कीर्ति सिंह शहीद सम्मान समारोह अवसर पर उपस्थित थे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *